बिहार सरकार ने ट्रांसजेंडर को दी अच्छी ख़बर : पोलिस में करेंगे नौकरी ।

सामान्य प्रशासन की नोटिस

बिहार के ट्रांसजेंडर कम्युनिटी के लिय एक बड़ी ख़बर, बिहार सरकार ने ट्रांसजेडर को लेकर ऐतिहासिक कदम उठाया है ।अब ट्रांसजेडर भी बिहार पुलिस की भर्ती में हिस्सा ले सकेंगे । इसके अलावा वो अब पुलिस कांस्टेबल एवं दारोगा बन सकेंगे । इसका पता सामान्य प्रशासन के द्वारा जारी नोटिस से चला। इस नोटिस में कहा गया है कि बिहार के ट्रांसजेंडरों का बिहार पुलिस में नियुक्ति का रास्ता साफ हो गया है। जिसके बाद अब वो बिहार पुलिस के लिए होने वाली परीक्षाओं में बैठ सकेंगे । मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में इसको लेकर फैसला किया गया । इस बैठक में गृह सचिव सेंथिल कुमार, और सामान्य प्रशासन विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद, अपर सचिव महेंद्र कुमार भी शामिल हुए । बता दे सामान्य प्रशासन विभाग ने नोटिस जारी करते हुए कहा कि किन्नरों, ट्रांसजेंडर को बिहार पुलिस में निकलने वाली भर्ती में हर 500 पदों पर भर्ती मिलेगी । दरअसल ऐसा कई राज्यों में पहले किया जा चुका है और अब उसी ओर बिहार भी बढ़ रहा है।

पिछड़ा वर्ग के सामान्य उम्मीदवार से भी हो सके की नियोक्ती

इसके अलावा ट्रांसजेंडर को संकल्प के मुताबिक पिछड़ा वर्ग अनुसूची 2 के तहत शामिल किया गया है । इस बात का भीख्याल रखा गया है की नियुक्ति पुरी हो सके। नियोक्ति के समय अगर योग्य ट्रांसजेंडर नहीं मिल सके तो इस कोटा को पिछड़ा वर्ग के सामान्य उम्मीदवार से भरा जाएगा । इसके साथ ही बिहार पुलिस की आगामी होने वाले नियुक्ति प्रक्रिया में बिहार को 51 किन्नरों की सीधी भर्ती हो सकेगी. जिसमें बिहार पुलिस में सिपाही के लिए 41 पद और दारोगा के 10 पद पर ट्रांसजेंडर की सीधी नियुक्ति होगी.

भर्ती के लिय ये होना अनिवार्य

लेकिन बिहार पुलिस में भर्ती के लिए सबसे पहले किन्नरो को ट्रांसजेंडर होने का प्रमाण पत्र देना होगा। इसके अलावा बिहार का मूल निवासी होना चाहिए और आवासीय प्रमाण पत्र भी देना होगा.सभी अभ्यार्थी का शारीरिक परीक्षण भी किया जायेगा जो कि महिला अभ्यार्थियों के समान ही होगा । 2001 की जनगणना के मुताबिक बिहार में ट्रांसजेंडरो की जनसंख्या 41 हजार के लगभग है. तो यह नई पहल ट्रांसजेंडर कम्युनिटी में एक नई दिशा लेकर आया है, जिससे उनका उत्थान भी होगा और समाज में अपने लिए समान भी स्थापित करने में मदद मिलेगी।