होली में बिहार आना फिर हुआ महंगा, तीन गुना बढ़ गया फ्लाइट का किराया

त्योहार में घर जाने की इच्छा पर आई रुकावट
त्योहारों का मौसम और घर जाने की इच्छा, यह उन्हें जरूर होती है जो बाहर रहते हैं, पर होली के मौके पर घर जाने वालों के लिए एक बार फिर से रुकावट सी लग गई है। फ्लाइटों के दाम में लगातार वृद्धि होती नजर आ रही है। बिहार के लोग अगर घर आने के इच्छुक हैं तो सावधान हो जाएं, क्योंकि ट्रेन की टिकटें मिल नहीं रही और फ्लाइट के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं।

किराए में 4 गुना वृद्धि

होली के मौके पर बिहार में अपने घर लौटने वालों की परेशानियां बढ़ सी गई है। देश के बड़े महानगरों से पटना आने का विमान किराया अब बढ़ गया है, जैसे-जैसे होली का त्योहार करीब आ रहा है वैसे वैसे किराया पीक पर पहुंचता जा रहा है। वहीं पटना से दिल्ली जाने वाली फ्लाइटों का किराया 10 हजार की सीमा को पार कर चुका है और सामान्य से चार गुना बढ़ चुका है. इसके अलावा होली के बाद पटना से विभिन्न महानगरों को वापस जाने का हवाई किराया 21 मार्च को सबसे अधिक है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मुंबई का आने से भी अधिक होली के बाद वापस जाने का किराया है और यह बढ़कर 12 हजार के पार हो गया है। इसलिए अगर होली में परदेश से अपने घर लौट रहे हैं, तो सावधान हो जाइए वरना त्योहार के लिए जो भी खरीदारी हुई है जैसे की कपड़े एवं समान वह घर नही भी पहुंच सकता है।

ट्रेनें भी हुई हाउसफुल

होली के मौके पर लोग घर आने को बेताब हो रहे और इस वजह से ट्रेनें भी हाउसफुल होकर चल रही हैं। तो वहीं विमान कंपनियों ने भी इस अधिक मांग को देखते हुए अब किराया बढ़ा दिया है। होली से पहले बड़े शहरों से बिहार आने वाली किसी भी ट्रेन में एक भी सीट खाली नहीं है। ऐसे में लोग हवाई मार्ग का विकल्‍प देख रहे हैं, लेकिन यहां भी यात्रियों को दोहरी मार का सामना करना पड़ रहा है। देखा जा रहा है कि दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, बेंगलुरु जैसे शहरों से पटना आने वाले विमानों के किराये में दो से तीन गुना की वृद्धि हो गई है।

क्या है विमानों का नया किराया?

अहमदाबाद – पटना – 13,500
दिल्ली- पटना – 13,000
गुवाहाटी – पटना – 12,800
अमृतसर – पटना – 16,500
मुंबई – पटना – 14,500
रांची – पटना – 5,500
हैदराबाद – पटना – 15,000
बेंगलुरु – पटना – 15,000
चेन्नई – पटना – 14,000
गोवा – पटना – 17,000
रायपुर – पटना – 14,000

नशाखुरानी गिरोह से हो जाएं सावधान!

यहां पर्व-त्योहार के इस मौसम में नशाखुरानी गिरोह भी काफी सक्रिय हो गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नशाखुरानी गिरोह के सदस्य, बगैर किसी जान-पहचान के आपस में बातचीत कर मेलजोल बढ़ाने का काम करते हैं। उसके बाद वे आपको नशा युक्त लस्सी, कोल्ड ड्रिंक, चाय, कॉफी, बिस्कुट, प्रसाद जैसे खाद्य सामग्री देकर बेहोश करते हैं। फिर सामान लेकर यह फरार हो जाया करते हैं। वहीं ये लोग दूसरे राज्यों से कमाकर आने वाले भोले-भाले यात्रियों को लगातार शिकार बनाते रहते हैं। ये लोग बाहर से लौटने वाले सीधे-सादे लोगों पर नजर पड़ते ही उन्हें उनकी मंजिल तक पहुंचाने का झांसा देकर अपने गाड़ी पर बैठा लेते है और फिर रास्ते मे नशीला पदार्थ खिला कर सारे सामान लूट कर फरार हो जाते हैं। इतना ही नहीं नशे की हालत में रास्ते में ही फेंक कर उन्हें मरने के लिए छोड़ भी देते है।

नशाखुरानी के बढ़ने लगे हैं मामले

वहीं बिहार के हाजीपुर-मुजफ्फरपुर मुख्य मार्ग पर अब इन दिनों नशाखुरानी सदस्यों के द्वारा शिकार किए गए लोग लगातार इधर-उधर फेंके हुए मिल रहे हैं। बता दें कि रविवार की सुबह ही भगवानपुर थाने के मांगनपुर गांव में सड़क किनारे लीच्ची के बागान में दो यवकों को गंभीर बेहोशी की हालत में पाया गया। सुत्रूं कि माने तो लगभग 25 एवं 30 वर्ष की उम्र के युवकों को ग्रामीणों ने बेहोशी की हालत में छटपटाते देखा था और तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दे दी गई थी। इसके अपृक्त पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंच कर दोनों युवकों को स्वास्थ्य उप केंद्र भगवानपुर में लाकर भर्ती करा दिया है। बताया जा रहा कि उसका इलाज चल रहा है, वहीं अभी तक युवक बेहोश बना हुआ है। उसके होश में आने के बाद ही मामले का खुलासा हो सकेगा।