बिहार पुलिस में पहली बार इतनी संख्या में महिला चालक अथवा होमगार्ड |

पितृसत्तात्मक समाज को गंभीरता से चुनौती देते हुए बिहार की महिलाओं ने आज अपना उदहारण पुरे देश के सामने लाकर रख दिया है। बिहार पुलिस की अबियर्थियों ने पुलिस सर्विस जैसी कठिन नौकरियों में भी अपना चयन करवाकर पूरे राज्य की महिलाओं का प्रेम अपने नाम।कर लिया है।

आपको बता दे की 3 जनवरी, 2021 को चालक सिपाही पदों के सीधे नियोक्ति के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी जिसका परिणाम आ गया है।

सोमवार को केंद्रीय चयन पार्षद(सिपाही भर्ती) ने रिजल्ट जारी कर दिया है। रिजल्ट के मुताबिक बिहार पुलिस में कुल 1700 रिकितियों के विरुद्ध 1632 अभियार्थियों का चयन कर लिया गया है। खास बात यह है की इनमे से 14 महिलाएं हैं।

साथ ही साथ होमगार्ड के 60 चालक सिपाही पदों की भी नियोक्ती को गए। जिनमे से 7 महिलाएं चालक सिपाही है। हालाकि यह आंकड़ा बहुत बड़ा नही है मगर बिहार में इससे पूर्व एक साथ 7 महिला चालक की भर्ती नही की गई है।

ऐसी बात नही है कि इससे पहले बिहार पुलिस मे महिलाओं की भर्ती नही हुई है। अन्य राज्यों को तरह बिहार में भी महिला सिपाही कि बहाली होती रहती है। सिपाही से लेकर डीएसपी तक के पदों पर महिलाएं चयनित हुई लेकिन पुलिस और होमगार्ड में एक साथ में ड्राइवर के तौर पर पहली बार 21 महिलाओं का चयन हुआ है।

पार्षद के अनुसार 1700 रिक्तियों की विरुद्ध 1632 अभियान थियो का चयन किया गया है। पिछले वर्ग की महिलाओं के लिए आरक्षित 68 पद के लिए पत्र अभ्यार्थी उपलब्ध नहीं होने के कारण पद रिक्त हैं। कुल 14 पात्र महिलाएं उम्मीदवार उपलब्ध हुई जिनमें से सभी का चयन कर लिया गया है।

साथी पार्षद के अध्यक्ष के एस द्विवेदी के अनुसार पहले भी महिलाओं का चयन सिपाही चालकों के तौर पर किया गया है परंतु इस बार की संख्या सबसे अधिक है।

Aashka Swaraj