बिहार पंचायत चुनाव में उम्मीदवारों और वोटरों के लिए बने सख्त नियम

जैसा की हम सभी जानते है की कोरोना के दूसरे लहर ने बिहार समेत लगभग पूरे देश को बूरी तरह अपने चपेट में लिया है और कोरोना के बढ़ते इस संक्रमण को देखते हुए ही बिहार का पंचायत चुनाव को टाल दिया गया था।वहीं अब कोरोना की लहर जब शांत है और संक्रमण को देखते हुए चुनाव आयोग ने तेजी से इलेक्शन करवाने की तैयारी में जुट गयी है। लेकिन इन सब के बीच संक्रमण के फैलाव को ध्यान में रखते हुए कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए सख्ती भी बरती जायेगी। चुनाव आयोग ने कहा है की मतदान के दौरान कोई लापरवाही नहीं हो पायेगी इसका खास ख्याल रखा जायेगा । जैसे की मतदान केंद्रों पर वोटरों और ड्यूटी में लगे कर्मियों को मास्क पहनने की अनिवार्यता होगी। इन सब की लापरवाही पर जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है। वहीं वोटिंग सेंटर पर सख्ती से कोरोना गाइडलाइन का अनुपालन भी कराया जायेगा। अगर मतदान केंद्र पर मास्क के बिना अगर कोई मतदाता वोट देने जाता है तो उसे उसी समय 50 रुपये जुर्माने के रुप में भरना पड़ेगा। होने वाले बिहार पंचायत चुनाव में चुनाव आयोग की जाने वाली किसी भी लापरवाही पर नरमी के मूड में नहीं है। वहीं आयोग की तरफ से मतदान केंद्रों पर वैसे लोग जो मास्क नही लगाए होंगे उनके लिए मास्क का इंतजाम भी किया जायेगा। पंचायत चुनाव के दौरान हर केंद्रों पर मतदाताओं के शारीर के तापमान का भी जांच की जायेगा। और वैसे लोग जिनके शरीर का तापमान मानक से अधिक पाया जाएगा उन्हें अंतिम समय में वोट डालने का मौका दिया जायेगा। पंचायत चुनाव में कार्य का रहे कर्मियों को मास्क व फेसशिल्ड लगाना अनिवार्य रहेगा। पंचायत चुनाव के लिए कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने पूरी प्लानिंग तैयार कर ली है । और इन सभी चीजो को लेकर एक विस्तृत गाइलाइन भी जारी किया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 2021 मतलब की इस बार के पंचायत चुनाव के लिए उम्मीदवारों को 5 से अधिक लोगों के समूह में प्रचार करने की इजाजत नहीं दी जायेगी। मतलब की यह साफ होता है की चुनाव प्रचार के लिए अधिक से अधिक केवल 5 लोगो की आवस्यकता है।वहीं इस चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना गाइडलाइन का अनुपालन उन्हें हर हाल में सख्ती से करना होगा। वही मतदान केंद्रों को अच्छी तरह से सैनेटाइज करने का निर्देश दिया गया है । साथ ही साथ मतदान के लिए उपयोग कराये जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को भी सैनिटाइजेशन किया जायेगा। प्रशिक्षण के दौरान कर्मी और अधिकारियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था कोई जायेगी। आयोग चुनाव आयोग में कार्यरत लोगो के लिए पीपीई कीट की भी व्यवस्था करेगी । जिसे जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल किया जा सकेगा । तो कुल मिला के हम यह कह सकते है की इस बार चुनाव आयोग पूरी तैयारी के साथ कोरोना महामारी से लड़ने को तैयार है। और इन सब के बीच चुनाव कराये जाने वाले स्थान पे कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया जायेगा।

News by Pragya Kumari