पंचायत चुनाव के कारण बिहार में टला उपचुनाव, दिसंबर बाद ही होने की उम्मीद.

राज्य में दिसंबर तक पंचायत आम चुनाव कराये जा रहे हैं, पंचायत आम चुनाव 2021 के कारण राज्य में विधान परिषद की 24 सीटों के आम चुनाव के साथ विधानसभा की रिक्त दो सीटों पर उपचुनाव दिसंबर के बाद ही संभव होगा.यह पहली बार है जब स्थानीय निकाय प्राधिकार की सभी 24 सीटें जुलाई से रिक्त हैं, दिसंबर के दूसरे-तीसरे सप्ताह के बीच त्रिस्तरीय पंचायतों के प्रतिनिधियों को शपथ ग्रहण कराया जायेगा. इसके बाद ही विधान परिषद की सीटों पर चुनाव संभव है.जानकारों के अनुसार दिसंबर के बाद विधान परिषद की स्थानीय निकाय के माध्यम से रिक्त 24 सीटों पर चुनाव कराने की प्रमुख वजह है कि उसकी नयी मतदाता सूची अब तक तैयार नहीं हुई है.स्थानीय निकाय के निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा ही विधान परिषद सदस्यों का निर्वाचन किया जाता है. राज्य में त्रिस्तरीय पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों का कार्यकाल समाप्त हो चुका है. ऐसे में विधान परिषद की रिक्त सीटों के लिए अभी नयी मतदाता सूची तैयार नहीं है.पंचायत आम चुनाव के बाद मुखिया, पंचायत समिति सदस्य और जिला परिषद सदस्यों के साथ नगर निकाय के निर्वाचित सदस्यों द्वारा विधान परिषद की स्थानीय निकाय की सीटों के लिए होनेवाले चुनाव में मतदाता होते हैं.इधर विधानसभा की तारापुर और कुशेश्वर स्थान की रिक्त सीट पर भी उप चुनाव होना है. बताया जा रहा है कि पंचायत चुनाव में राज्य की प्रशासनिक मशीनरी के व्यस्त होने के कारण उप चुनाव नहीं होगा. साथ ही यह उम्मीद है कि राज्य में पंचायत चुनाव के बाद विधान परिषद की 24 सीटों के साथ ही विधान सभी की दो सीटों पर उप चुनाव कराया जायेगा.

News by Kriti kumari