तेजस्वी यादव बोले- विपक्ष को एकजुट होना चाहिए, वरना इतिहास माफ़ नहीं करेगा !

बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा है कि प्रतियोगिता के आयोजनों को सभी भिन्नताओं को भूलकर और अपने अहंकार को अलग रखते हुए सामूहिक रूप से आना होगा, अन्यथा अब ऐसा नहीं करने के लिए इतिहास उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।यह बात उन्होंने अंग्रेजी अखबार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में कही।  यादव ने कहा कि प्रतियोगिता में “वास्तविक मुद्दों” की कोई कमी नहीं है और उन्हें उन वास्तविक मुद्दों के आसपास अपनी राजनीतिक रणनीति का निर्माण करना होगा।उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस भविष्य में किसी भी प्रतिस्पर्धा गठबंधन की रीढ़ होगी, क्योंकि यह अब तक देशव्यापी जन्मदिन का जश्न है और बिना देरी किए भाजपा के खिलाफ दो सौ सीटों पर चुनाव लड़ती है। यादव ने अखबार से बातचीत में कहा कि ममता बनर्जी, अखिलेश यादव और शरद पवार जैसे नेता अक्सर संयुक्त राज्य अमेरिका के भीतर के अत्याधुनिक हालात से जुड़े होते हैं और वे इसके बारे में लगातार बात कर रहे थे, लेकिन इन सभी को एक बनाने के बारे में।  दल।  विशेष राज्यों में सामूहिक रूप से ग्रहण और भ्रमण करना चाहिए। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि जल्द ही इस दिशा में कुछ किया जाएगा। विपक्ष के सभी प्रमुख नेता साथ बैठकर इस बारे में बातचीत करेंगे। जब मुझसे कोई पूछता है, तो मैं कहता हूँ कि समय आ गया है और हमें जल्द से जल्द बीजेपी सरकार के ख़िलाफ़ एक मज़बूत गठबंधन तैयार करना चाहिए। बल्कि मैं कहूंगा कि हमें हार के अगले दिन से ही इस दिशा में काम करना चाहिए था।” यादव ने कहा कि “विपक्ष के नेताओं को लगातार जनता के बीच जाना चाहिए। आरजेडी बिहार तक सीमित है, तो कोई पश्चिम बंगाल या सिर्फ़ महाराष्ट्र में अपना प्रभाव रखता है. ऐसे में हमें एकजुट होना होगा और मिलकर विभिन्न राज्यों में जाना होगा. हमें लोगों को मुद्दे समझाने होंगे, हमें मेहनत करनी होगी, हमें लोगों को याद दिलाना होगा कि किन वादों के साथ बीजेपी सत्ता में आयी थी जिन्हें उसने पूरा नहीं किया।” आरजेडी नेता ने कहा कि ‘हम अगर लोगों को समझा नहीं पाते, तो इसमें हमारी कमी है। शायद हम उन्हें एकजुट दिखाई नहीं देते। इसीलिए हमें अपने सारे मतभेद भुलाने होंगे, अपने-अपने अहंकार को साइड रखना होगा और ये देखे बिना आगे बढ़ना होगा कि अगर हम जीते तो हमें क्या मिलेगा। देश बचेगा, तभी तो नेतागिरी बचेगी. लेकिन बीजेपी वाले ज़्यादा वक़्त तक रहे, तो देश में कुछ नहीं बचेगा।’ तेजस्वी यादव ने माना कि कांग्रेस के साथ परेशानियाँ हैं और पार्टी को ख़ुद ही इससे लड़ना होगा. कांग्रेस को मैदान में उतर जाना चाहिए. उनके पास 200 सीटें ऐसी हैं, जहाँ वो सीधे तौर पर बीजेपी को टक्कर देते हैं. इसलिए देर करने से कोई फ़ायदा नहीं होगा. मैं नहीं जानता कि कोरोना महामारी की वजह से कितना संभव हो पायेगा और बीजेपी क्या करेगी, लेकिन हमें कुछ तो करना होगा.लेकिन लोगों को बीजेपी नेतृत्व का विकल्प दिखाई नहीं देता! तो इस बात पर यादव ने कहा, “हमें रणनीति बनानी होगी. हमें सोचना होगा कि हम इस सरकार को कैसे घेर सकते हैं. लोग चाहते हैं कि ये सरकार जल्द से जल्द गिरे. जिन्होंने बीजेपी को वोट दिया, उन्हें आज अपनी ग़लती महसूस होती है. लेकिन ये हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम लोगों को विकल्प दें. सबसे महत्वपूर्ण है कि हम इस बारे में बैठकर बात करें. देश और संविधान बचाने के बारे में सोचें.”

News by Riya Singh