तीसरी लहर से सावधानी की लिए मोदी ने बुलाया बैठक |

देश में एक बार फिर वही चिंताजनक साल 2019 वाला माहोल नजर आ रहा है जहा लोगो के मन में संकोच और चिंता नजर आ रही है। हर तरफ बस कोविड से जुड़ी खबरें सामने आ रहीं है। देश की अर्थव्यवस्था एक बार फिर हैरान और परेशान है। कोविड के ओमिक्रोन वेरिएंट का संक्रमण सभी वेरिएंट में सबसे तेज़ी से बढ़ रहा है।

जी हा आपको बता दे की सभी वेरिएंट में से सबसे अधिक तीव्रता से फैलने वाला वेरिएंट ओमिक्रोन हैं। आपको जान कर आश्चर्य होगा की तीसरी लहर दूसरी लहर से 64% तेज़ है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डबल्यू एच ओ) ने हाल ही में यह जारी किया था की ओमिक्रोन वैरियंट डेल्टा वेरिएंट से ना तो सिर्फ तेज़ है बल्कि यह वेरिएंट वैक्सिनेट अथवा कोविड से उभरे हुए मरीजों को फिर हो रहा है।

इन्ही चीजों ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को एक बैठक बुलाने को मजबूर कर दिया। आपको बता दे की रविवार शाम साढ़े चार बजे देश के प्रधान मंत्री मोदी ने कोविड महामारी का राष्ट्रीय स्तर पर जायजा लेने के लिए एक बैठक की।

बताया जा रहा है कि बैठक में प्रधान मंत्री मोदी ने पहले से चल रहे अभियाओं को और शशत करने की बात की है। उन्होंने मौजूद मंत्रियों से कहा है कि किशोरों का कोविड टीकाकरण अभियान और तीव्रता से चलाया जाए साथ ही डॉक्टर्स, नर्सेज,पुलिस कर्मी अथवा अन्य फ्रंट लाइन वर्कर्स और 60 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए चल रहे सतर्कता डोज मिशन को मोशन में लाया जाए।

इसके अलावा बैठक में स्वस्थ सचिव राजीव भूषण ने प्रधान मंत्री को विश्वास दिलाया कि कोविड पैकेज 2 के तहत राज्यों स्वस्थ ढांचे को और मजबूत कर दिया है।

इसके अलावा प्रधान मंत्री ने सभी राज्यों का कोविड का जायजा करने की चाहत जताई। उन्होंने बैठक में कहा कि सभी राज्यों का कोविड का जायेगा लिया जायेगा और इसके लिए सभी राज्यों के मुख्य मंत्रियों के साथ बहुत जल्द एक बैठक बुलाई जाएगी।

आपको बता दे की बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, स्वस्थ मंत्री मनसुख मंडविया के साथ साथ फार्मा व अन्या मंत्रालय के सचिव और वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Aashka Swaraj