डॉ. रेड्डी ने शुक्रवार को हैदराबाद में कोविड-19 के लिए रूस के स्पुतनिक वी वैक्सीन का पहला शॉट दिया

डॉ. रेड्डी ने शुक्रवार को हैदराबाद में कोविड-19 के लिए रूस के स्पुतनिक वी वैक्सीन का पहला शॉट दिया। कंपनी ने कहा कि टीकों की कीमत 995.40 रुपये (948 रुपये + 5 प्रतिशत जीएसटी) होगी। उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय आपूर्ति शुरू होने पर कीमत कम हो सकती है।डॉ. रेड्डी ने कहा कि यह वैक्सीन की सुचारू और समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए नियामक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भारत में छह निर्माताओं के साथ काम कर रहा है।कंपनी ने एक बयान में कहा कि पहली खुराक एक सीमित पायलट के हिस्से के रूप में दी गई थी। ‘आने वाले महीनों में और सप्लीमेंट आने की उम्मीद है।’ इसके बाद स्पुतनिक वी वैक्सीन की आपूर्ति भारतीय मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर्स से शुरू होगी।स्पुतनिक वी, रूस द्वारा विकसित वैक्सीन, अब कोविशील्ड (सेरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया) और कोवासिन (भारत बायोटेक) के बाद आपातकालीन उपयोग के लिए स्वीकृत होने वाला तीसरा कोरोनावायरस वैक्सीन है।रूस में किए गए टीके के तीसरे चरण के परीक्षणों में इसकी प्रभावशीलता 91.6 प्रतिशत पाई गई है।मॉस्को में गमालय नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित वैक्सीन, दो अलग-अलग वायरस का उपयोग करता है जो मनुष्यों में सामान्य सर्दी ( एडेनोवायरस) का कारण बनते हैं। एडेनोवायरस कमजोर हो जाते हैं इसलिए वे मनुष्यों में दोहरा नहीं सकते हैं और बीमारी का कारण बन सकते हैं। उन्हें संशोधित भी किया जाता है ताकि वैक्सीन कोरोनावायरस स्पाइक प्रोटीन बनाने के लिए एक कोड प्रदान करे। इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि जब असली वायरस शरीर को संक्रमित करने की कोशिश करता है, तो यह एंटीबॉडी के रूप में एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट कर सकता है।रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (RDIF) ने भारत में परीक्षण करने के लिए सितंबर 2020 में डॉ. रेड्डी के साथ भागीदारी की थी।

News by Tanvi Tanuja