जूही चावला ने भारत में 5जी लागू करने के खिलाफ मुकदमा दायर किया

एक्ट्रेस जूही चावला ने इंसानों, जानवरों आदि पर टेक्नोलॉजी के रेडिएशन प्रभाव का हवाला देते हुए भारत में 5G वायरलेस टेक्नोलॉजी की स्थापना के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में केस दायर किया है।अभिनेत्री जूही चावला ने सोमवार को देश में 5G वायरलेस नेटवर्क की कथित स्थापना के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, जिसमें नागरिकों, जानवरों, वनस्पतियों और जीवों पर विकिरण के प्रभाव से संबंधित मुद्दों को उठाया गया।  न्यायमूर्ति सी हरि शंकर, जिनके समक्ष यह मामला सुनवाई के लिए आया,  उन्होंने ने मुकदमा दूसरी पीठ को स्थानांतरित कर दिया। 2 जून को सुनवाई, जब HC चावला की याचिका की जांच कर सकता है।जूही चावला ने कहा कि “हमारे पास यह मानने का पर्याप्त कारण है कि रेडिएशन लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए बेहद हानिकारक और खतरनाक है,” हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार।याचिका(Petition) में दूरसंचार विभाग से यह प्रमाणित करने के लिए भी कहा गया है कि प्रौद्योगिकी सभी मनुष्यों, जानवरों और पक्षियों के लिए सुरक्षित है।  बिजनेस इनसाइडर की रिपोर्ट के अनुसार, यह भी कहता है कि यह सुनिश्चित करने के लिए एक अध्ययन किया जाए कि रेडिएशन न केवल अभी बल्कि भविष्य में भी नुकसान नहीं पहुचाए।NDTV के अनुसार, अभिनेत्री जूही चावला ने बोला है कि अगर देश में 5G तकनीक लागू की जाती है, तो कोई भी व्यक्ति, पौधा या जानवर आज की तुलना में 10x से 100x अधिक रेडिएशन के संपर्क में आने से नहीं बच पाएगा।

News by Riya Singh